देसी फुल बीएफ

Image source,ऐश्वर्या राय की सुहागरात

तस्वीर का शीर्षक ,

इंग्लिश में सेक्स ब्लू: देसी फुल बीएफ, तभी सोनू मेरे लहंगे से बाहर निकला और वो मुझे कसके पकड़ते हुए चूमने लगा.

सेक्सी कहाणी

मैंने बस एक दो बार ही उसकी चुत को सहलाने के बाद अपने‌ हाथ को उसके लोवर व पेन्टी से बाहर निकाल‌ लिया और धीरे से उठकर उसकी बगल में बैठ गया. दिसावर में आज क्या खुला है सुबहशायद काम क्रीड़ा का खेल‌ खेलते खेलते सुलेखा भाभी की चुत ने कामरस उगल दिया था, जिससे उनकी पेंटी भीग गयी थी.

कुछ देर बाद उनको मजा आने लगा तो मैंने और जोर से धक्का मारा और अब मेरा पूरा लंड भाभी की चूत के अन्दर बच्चेदानी तक जा रहा था. रबड़ की योनिरोज़ मैं ब्रा पैंटी के ऊपर से टॉवल लपेट लेती और कपड़े बाहर निकल कर पहनती थी.

अब मैं उसकी चूत को मुट्ठी में भर कर दबाने, मसलने के साथ साथ दरार में कुरेदने लगा; उसकी चूत के रस से मेरा हाथ चिपचिपा हो गया.देसी फुल बीएफ: वो बोला- सच बता साली भोसड़ी वाली … तू कितनों से चुदती है?मैंने कहा- अबे चोद बे … आज मेरा फर्स्ट टाइम है यहां पर!वो बोला- तेरा फर्स्ट टाइम होगा यहां पर … लेकिन तू मस्त रंडी है.

मेरे हर झटके के साथ कविता के चूतड़ भी हिल रहे थे और कविता की कामुक सिसकारियां निकल रही थीं ‘हां रवि … अहा … रवि पूरा डालो अह … आआह … आई लव यू रवि …’उसकी मस्ती को देख कर मेरा लंड और ज्यादा कड़क होकर अन्दर बाहर हो रहा था.आज से मैं तुम्हारी गुलाम हो गयी, मेरी जिंदगी तुम्हारी हो गयी मेरे राजा.

हिंदी सेक्स फिल्म सेक्स फिल्म - देसी फुल बीएफ

जैसा कि मैंने पहले बताया था कि मैं ग्वालियर में रहता हूं और वहां अपनी पढ़ाई पूरी कर रहा हूँ.जैसे ही मेरी जीभ उसकी चूत से टकराई, रेवती एकदम से उछल पड़ी और उसकी पूरी चूत मेरे मुँह में समा गई.

!! कैसा लगा पिंकी से बातें करके?मैं मुस्कुरा दिया, मैंने कहा- अभी बातें शुरू कहाँ हुई है। अभी तो बस इशारे हुए है। बातें तो करेंगे गर तुम करने दोगी तो?रानी बोली- मैंने कब मना किया?मैंने कहा- तुमने अभी तक पप्पू को किस भी नहीं किया है.देसी फुल बीएफ रिया भाभी ने खुश होकर मुझे इतना टाइट किस किया कि मेरा लंड मयूरी भाभी की गांड में और तूफान मार गया.

हमारी किस्मत तो देखिए कि इतना खराब निकली कि जो ट्रेन हमेशा सही समय पर आ जाती थी.

बैडमिंटन कोर्ट साइज इन फ़ीट?

देसी फुल बीएफ अभी वो मेरा साथ तो नहीं दे रही थीं, पर मेरा विरोध भी नाममात्र का कर रही थीं.

सेक्स वीडियो बहन भाई?हिजड़ा वाली सेक्सी बीएफ

देसी फुल बीएफ मैं आज आप सबको अपने एक शारीरिक सम्बन्ध के बारे में बताने जा रही हूँ कि कैसे मैंने अपनी चुदास को शांत करने के लिए अपनी मौसी के लड़के से चुदवा लिया.

हिन्दी सेक्सी विडीयो

तभी राज अंकल ने जोर से मेरे बालों को खींच कर अपना पूरा लौड़ा मेरी गांड में पेल दिया और बोले- वन्द्या तुम रंडी बनोगी, सच बता?मैं बोली- हाँ राज.मैं जब भी कोचिंग जाता या कोचिंग से वापस आता, तो उसी रास्ते से निकलता था.

देसी फुल बीएफ मॉम मुझसे कुछ और देर तक पूछती रहीं और जब मैंने जवाब नहीं बदला तो वे मान गईं और कहने लगीं कि तुझे पता ही है कि कमरों के दरवाजे नहीं हैं.

गजब बदन का पर्यायवाची

छाती फोटोवो बोला- सच बता साली भोसड़ी वाली … तू कितनों से चुदती है?मैंने कहा- अबे चोद बे … आज मेरा फर्स्ट टाइम है यहां पर!वो बोला- तेरा फर्स्ट टाइम होगा यहां पर … लेकिन तू मस्त रंडी है.

जब भी मैं भाभी को चोदने जाता, तो उनकी गांड जरूर मारता, उनकी गांड अब बहुत बड़ी हो गयी थी.थोड़ी देर बाद वो बोली- अब और नहीं रहा जाता मुझसे … चोद कर तू मुझे औरत बना दे।मैंने भी देर नहीं की और उससे कहा- यार कोई क्रीम या तेल ले आ! चिकनाई लगा कर करेंगे तो आसानी से अंदर चला जाएगा.

मेरे द्वारा लिंग को पकड़े जाने से माइक रुक गया और बोला- माफ करना, मैं शायद कुछ ज्यादा ही जल्दी में था.

आज तक हमने कभी भी इतनी सेक्सी खूबसूरत और इतनी मस्त फिगर की लड़की नहीं देखी है.

मैंने कमरा खोला, फिर घर का चक्कर लगा कर देखा कि कोई आस पास है या नहीं. थोड़ी ही देर में वो मुझे अपने तरफ खींच कर मुझे अपने ऊपर लेकर कस के पकड़ कर आहें भर रही थी.

एस एस एस वीडियो मेरे लिए ये तो और भी अच्छा हो गया था, क्योंकि सुलेखा भाभी का ब्लाउज पीछे से काफी खुला हुआ था, जिससे गर्दन के नीचे से उनकी आधी से ज्यादा नंगी पीठ अब मेरे सामने थी.

कोलकाता फटाफट का रिजल्ट दिखाइए

देसी फुल बीएफ: इसलिए उसने सोचा कि अब माँ को अपना पार्ट्नर ही बनाना पड़ेगा।एक दिन उसने माँ से पूछा- मम्मी अपने घर पर रोज़ यह अंकल किसलिए आते हैं?तो उसको जवाब मिला- आफिस का काम होता है जो वहाँ पर पूरा नहीं हो पता तो उसी के लिए यहाँ आते हैं।दो तीन दिन बाद अमीषा ने माँ से कहा- माँ, मुझे अच्छा नहीं लगता कि ये रोज़ रोज़ हमारे घर पर आते हैं.क्योंकि उसके बेबी छोटा था और कोई देखने वाला भी नहीं था, तो वो कहीं बाहर नहीं जा सकती थी.