दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ

Image source,फोर प्ले इन थे बैडरूम

तस्वीर का शीर्षक ,

सुपर सेक्स बीएफ: दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ, मेरे नितम्बों के आँगन पर, साजन ने मोती बिखेर दियासाजन के अंग ने मेरे अंग को, सखी अद्भुत यह उपहार दियाआह्लादित साजन ने नितम्बों का, मोती के रस से लेप कियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

र्पोन मीनिंग इन

मैं पलंग से उठा ही था तभी रजिया मेरे लिए चाय लेकर आ गई और मेज पर रख दी। मैंने पीछे से रजिया को दबोच लिया‘ओ. ब्लू फिल्म हिंदुस्तानहमको बेबी से बात करना जी।रेहान आरोही को ‘थंब’ दिखा कर ऑल दि बेस्ट बोल देता है और बाहर चला जाता है।अन्ना- बेबी, रेहान बोला तो हम तुमको चाँस देना जी.

पहले मैं ये समझ नहीं पाई लेकिन फिर अंकिता ने अपना 9 इंच लंबा और लगभग 3 इंच चौड़ा गुलाबी डिल्डो निकाला और मेरी आँखों के सामने नचाया। उसी वक़्त मैं समझ गई कि मेरी गाण्ड का उद्घाटन करने की तैयारी है. भगवती सेक्सीपर साला फट्टू था।वो बस होंठों पर जुबान फेर कर रह जाता था, बड़ी हद हुई तो लौड़ा सहला देता था।मैं मन ही मन कुढ़ती थी कि कहीं मैं साले नामर्द पर दांव तो नहीं लगा रही हूँ.

‘अब बस करो… छोड़ दो ना यार… ऐसा मत करो… शाहनवाज… हट जाओ ना…’पर उसका लंड मेरी गाण्ड के छेद पर आ चुका था, उसके लण्ड का स्पर्श चूतड़ों में बड़ा आनन्द दे रहा था.दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ: मेरे अंग के सब क्रिया कलाप, अब साजन की नज़रों में थेअंग को अंग से सख्ती से जकड़, चहुँ ओर से नितम्ब हिलोर दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !.

आराम से डालो न…मैं नम्रता को चुम्बन करने लगा, उसका दर्द अब मज़े में बदलने लगा, वो ज़ोर-ज़ोर से सिसकारी भरने लगी।मैं उसे बुरी तरह चोद रहा था, उसके दोनों पैर मेरे कंधों पर थे और मेरा लण्ड उसकी चूत में शंटिंग कर रहा था। मुझे तो जन्नत का मज़ा आ रहा था।पूरा कमरा हमारी सिसकारियों से गूँज रहा था, आहह.मैंने एक ही ज़ोरदार धक्के में आधे से भी ज़्यादा लंड चाची की चुदी चुदाई, खेली खाई फ़ुद्दी में उतार दिया.

साड़ी वाली औरत की चुदाई दिखाओ - दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ

तो दोस्तों इन सब सवालों के जवाब आपको अगले भाग में मिल जाएँगे। तो पढ़ते रहिए अन्तर्वासना की कहानियों को और मज़ा लेते रहिए।मेरी आईडी[emailprotected]gmail.कर लो, मैं किसी से नहीं कहूँगा।दीदी ने मेरे गाल पर चुम्बन किया और फिर मुझसे कहा- सारे कपड़े निकाल दे.

तेरे जिस्म के हर अंग को आज मैं खूब प्यार करूंगा…!वो मेरे पैन्ट के अन्दर अपना हाथ डाल कर मेरे लौड़े को मसल रही थी, वो बोली- साले देर मत कर.दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ कल तुम कैम पर आना।सलीम ने उसको एड करके लॉग-ऑफ कर दिया और दूसरे दिन रात में 10 बजे हम ऑनलाइन आए।पता नहीं लेकिन उसकी उम्र 35 सुन कर मुझे अच्छा नहीं लगा।सलीम से कहा- रेहान से बात हुई है.

मेरी मोटी और भारी कमर के नीचे बेचारे सूखे हुए चूसे हुए आम के जैसे तड़प रहे थे…बाबा ने हाथ जोड़ दिए…फिर मैंने बाबा के दोनों पैर को फैलाये … अपने गोल गोल चूतड़ों पर उनके हाथ रखे और अपनी एड़ी से उसके टट्टे को ज़मीन से रगड़ के पीस दिया…बाबा- अह अह अह…मैं- अह मज़ा आया.

ब्लैक एक्स एक्स एक्स?

दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ मेरी बात तो करवाओ एक बार अन्ना से…!साहिल- जूही प्लीज़ मैंने तुम्हारी बात मानी, तुमको माफ़ किया इसका नाजायज फायदा मत उठाओ…!जूही- साहिल एक बार मेरी बात सुन लो। वो अन्ना है ना वो….

अंग्रेज़ी से download का अनुवाद करें?एक्सीडेंट बीएफ

दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ मैं जब छठी में था वो सातवीं में थी पर गाँव के बच्चों की उम्र का अंदाजा लगाना बड़ा मुश्किल है।मुझे बोलती थी- रवि, तुम इतने गोरे कैसे हो?और मैं कहता था- क्योंकि मेरी मन गोरा है।अच्छा, तुम्हें अच्छा कौन लगता है?”उम्म… सबसे छोटे वाली भाभी !”अरे, वो क्यों?”क्योंकि वो जब मुझे ‘आप’ बुलाती है और मुझसे गाँव की लड़कियों की बातें करती है तो मुझे पेट में गुदगुदी होती है।”ओहो, किस तरह की बातें करती है?”.

भूत कैसे बोलता है

वैसे भी तुम बहुत चोदते हो।मैंने कहा- शर्त में हरा दिया मोहतरमा।वो बोली- हाँ ठीक है।लालसा से भरी नजरों से मुझे देखने लगी, उसने पूछा- रोज आते हो.!!!”यह आह मेरी थी जो योगेश का लण्ड घुसने से निकली थी। मैं अब तक कई बार योगेश से चुद चुका था, लेकिन अभी भी जब उसका लण्ड घुसता था, मेरी दर्द के मारे आह निकल जाती थी। वैसे उसका लण्ड था भी खूब मोटा और गदराया हुआ।योगेश ने अपना पूरा लण्ड मेरी गांड में पेल दिया था और हिलाने लगा था।अब आहें लेने की बारी मेरी थी, अह्ह्ह्ह ….

दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ जो हर समय चुदवाने के लिए बेचैन रहती है…! बुर को फाड़ कर अपने मदन-रस से इसे सींच दोओ…ओह माआअ ओह मेरे राजा बहुत अच्छा लग रहा है …चोदो…चोदो…चोदो …और चोद, राजा साथ-साथ गिरना…ओह हाईईईईईई आ जाओ … मेरे चोदू सनम…हाय अब नहीं रुक पाऊँगी ई ओह मैं … मैं…गइईईईईई.

सूट बताइए

+ का मतलब बताएँ!मैंने लैपटॉप चालू किया और हम दोनों देखने लगे, पर उसके मन में तो आज कुछ और ही था।वो बार-बार मुझे देखती और फिर लैपटॉप को।कुछ देर बाद बोली- और कोई मूवी नहीं है?मैंने बोला- नई पिक्चर में तो बस अभी यही है।उसने बोला- नहीं ऐसी नहीं कुछ अलग.

ट्रीन्न्न्न्न… ट्रीन्न्न्न्न…मैं सोचने लगा कि अभी कौन आ गया… प्रणव तो रात को आने वाला था…कहानी जारी रहेगी।[emailprotected].कहानी का पिछला भाग:कड़क मर्द देखते ही चूत मचलने लगती है-1मैं सलाद काटने रसोई में गई, तभी मौसा जी आए। मेरे पीछे खड़े हो गए, मेरा ध्यान सामने था। जब मैं मुड़ी.

! मुझे ये सब अच्छा तो नहीं लग रहा है, पर मजबूरी है जाना तो पड़ेगा ही।”जीजाजी बोले- मम्मी जी किसके साथ जाएँगी, कहिए तो मैं आपको मामाजी के यहाँ छोड़ दूँ.

!रेहान- अन्ना अभी नहीं, तुम कल कर लेना अभी मेरे प्लान का दूसरा भाग शुरू करना है। तुम बात को समझो यार उसकी चूत को मत छेड़ो.

मेरी आँखों में तो आँसू थे, साजन ने आँखें चूम लईआँखों से गिरी हीरों की कनी, होंठों की तुला में तोल दईहर हीरे की कनी का साजन ने, चुम्बन का अद्भुत मोल दियाउस रात की बात न पूछ सखी, जब साजन ने खोली मोरी अंगिया !. तो फटाफट मेल करो मेरी आईडी[emailprotected]पर और आगे क्या होगा?जूही किसके नसीब में लिखी है? ये सब आपको आगे के भाग में पता चल जाएगा। ओके फ्रेंड्स बाय…!.

चोदने वाले विडियो वो मुझे अपना भाई मानती थी और अक्सर आरोही के बारे में बात करती थी। उसने कई बार मुझे और साहिल को उससे मिलाना चाहा, पर मौका ही नहीं मिला, उससे मिलने का.

नंगि फिल्म दिखाइए

दिल्ली का जीबी रोड का बीएफ: यहाँ बैठो, मैं अभी दिखाती हूँ आपको !आरोही बैग से अपने कपड़े लेकर बाथरूम में चली गई और कपड़े पहन कर बाहर आई।आरोही- यह देखो, कैसी लग रही हूँ भाई, मैं?राहुल- अच्छी लग रही हो, अब दूसरा ड्रेस भी पहन कर दिखाओ।आरोही- भाई मैंने एक ही ड्रेस लिया है, दूसरा जूही का है.पिंकी सेनहैलो दोस्तो, आपकी दोस्त पिंकी एक बार फिर आपके लिए नया भाग लेकर हाजिर है।पिछले भाग को आपने इतना पसंद किया और इतने मेल किए कि मुझे बहुत अच्छा लगा।दोस्तो, आप सब जूही के लिए बेकरार हो रहे हो कि उसका नम्बर कब आएगा.